अब भोपाल के सीवरेज वाटर ट्रीटमेंट प्लांट पहुंचे शिवराज; इससे पहले कलेक्टोरेट में निरीक्षण किया

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार सुबह भोपाल शहर के निरीक्षण पर हैं। अब वे भोपाल के वाटर ट्रीटमेंट प्लांट कोहेफिजा में निरीक्षण कर रहे हैं। इससे पहले वे कलेक्टर कार्यालय पहुंचे।

कलेक्टोरेट में लोगों से बातचीत की और पूछा कि वे किस काम से यहां आए हैं और कोई दिक्कत तो नहीं हो रही है। कलेक्टोरेट में लोगों का हालचाल जाना। उनसे कोरोना से बचने और मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग की बात कही। साथ ही अधिकारियों से बातचीत भी की।

मुख्यमंत्री के सेक्रेटी एम. शैलवेंद्रम भी उनके साथ रहे। लोक सेवा केंद्र में जो आवेदक आ रहे हैं उनसे भी मुख्यमंत्री ने बातचीत ने की। जनता दरबार में सीएम तुरंत संबंधित अधिकारियों को उस व्यक्ति की समस्या हल करने का निर्देश भी दिए।

कलेक्टोरेट में आम लोगों की समस्या सुनते और तुरंत संबंधित अधिकारी को निर्देश देते सीएम शिवराज सिंह चौहान।

गौरतलब है कि कोराेना पीरियड में भी इसी तरह जनता का हाल जानने शिवराज सिंह चौहान घूमे थे। उन्होंने शहर के अलग-अलग इलाकाें में घूमकर लाेगों कसे बातचीत कर उनकी समस्या जानी थीं और उसके निदान के आदेश संबंधित अधिकारियों को दिए थे।सीएम शिवराजसिंह चौहान ने लोक सेवा केंद्र पहुंचकर चार लोगों से बात की जिन्होंने लोक सेवा के तहत आवेदन किए थे। सीएम का कहना है कि सभी ने यहां के काम से संतुष्टि जताई है। किसी को कोई समस्या नहीं है। आवेदन करने के उसी दिन उनको जानकारी मिल जाती है। आवेदन की प्रति के लिए 5 रूपए लिया जाते है। यह मुझे ज्यादा लगा है इसलिए मैंने कलेक्टर से कहा है कि प्रति पर जितना खर्च आता है उस हिसाब से 1 रूपए या 50 पैसे किया जाना चाहिए। कलेक्टर इस संबंध में जल्द ही कोई निर्णय लेंगे।

लापरवाही मिली तो होगा एक्शन

मुख्यमंत्री भोपाल के निरीक्षण पर निकले है, इस दौरान यदि खामियां और लापरवाही मिली तो एक्शन होगा। मुख्यमंत्री निरीक्षण के बाद इस संबंध में निर्देश जारी कर सकते है। मंत्रालय सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री पहले किसी अन्य जिले में छापा मार कार्रवाई करने वाले थे लेकिन बाद में उन्होंने अपना कार्यक्रम बदलते हुए सबसे पहले राजधानी में ही निरीक्षण करना तय किया।

15 दिसंबर तक बन जाए सीवरेट ट्रीटमेंट प्लांट
मुख्यमंत्री चौहान ने सीवरेट ट्रीटमेंट प्लांट का निरीक्षण करने के बाद कहा कि इसका निर्माण पूरा करने की डेडलाइन 15 दिसंबर दी गई है और इसी दिन मैं इसका उदघाटन करने आऊंगा। इस प्लांट के शुरू होने के बाद बड़े तालाब में गंदा पानी नहीं मिलेगा और यहां से निकलने वाली गाद से खाद बनाई जाएगी। ऐसे कुल पांच ट्रीटमेंट प्लांट बन रहे है। सब की डेडलाइन 15 दिसंबर दी गई है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान औचक निरीक्षण के दौरान कलेक्ट्रेट में एक दादा से उनकी समस्या सुनते।

Related Posts