Media Pramukh

उज्जैन में पिछले 24 घंटे में 9 लोगों की मौत, सुबह दो और शव मिले; थाना प्रभारी समेत चार सस्पेंड, मुख्यमंत्री ने एसआईटी जांच के निर्देश दिए

उज्जैन में पिछले 24 घंटे के अंदर 9 मजदूरों की मौत के मामले में सीएम शिवराज ने एसआईटी का गठन कर दिया है और मामले में अपर मुख्य सचिव गृह से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है। वहीं, सरकार की सख्ती के बाद उज्जैन एसपी मनोज सिंह ने खाराकुआं टीआई सहित चार पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है। मामले में पुलिस ने अब तक 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। बुधवार को 7 मौतों के बाद गुरुवार सुबह दो मजदूरों की लाश मिलने के बाद मामला गरमाया हुआ है। आशंका है कि शराब पीने से इनकी मौत हो गई। हालांकि, पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही इसकी पुष्टि हो सकेगी।

उज्जैन के एसपी मनोज सिंह ने मामले में लापरवाही बरतने और अधिकारियों को गुमराह करने पर खाराकुआं थाना प्रभारी एमएल मीणा, एसआई निरंजन शर्मा, आरक्षक अनवर शेख और नवाज शरीफ को सस्पेंड कर दिया है। जिले में देर रात से ही अवैध शराब को लेकर चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। पुलिस की दो टीम अलग-अलग इलाके में भेजी गईं। अब तक पुलिस ने 10 आरोपियों की गिरफ्तार किया है।

शिवराज ने कहा- दोषियों को छोड़ेंगे नहीं

मुख्यमंत्री ने शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि दोषियों को किसी कीमत पर छोड़ा नहीं जाएगा। उन्होंने गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव को मामले की जांच रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए। अपर मुख्य सचिव गृह जांच करेंगे। एसआईटी बनाई गई है। पुलिस की स्पेशल टीम जांच करेगी।

महाकाल क्षेत्र में सुबह 2 मजदूरों के शव मिले

जानकारी के मुताबिक, महाकाल थाना क्षेत्र में गुरुवार सुबह झारड़ा निवासी रतन मालवीय का शव नरसिंह घाट और हरदा निवासी राकेश का शव ढाबा राेड से मिला। पुलिस ने शव को पीएम के लिए अस्पताल भिजवाया। आशंका जताई जा रही है कि इनकी भी जहरीली शराब पीने से माैत हुई है। हालांकि, पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत किन कारणों से हुई, इस बात की पुष्टि हो पाएगी।

युवक का सामान बिखरा पड़ा था।

बुधवार को 7 की हुई थी मौत

  • बुधवार सुबह 7 बजे छत्री चौक सराय के फुटपाथ पर दो मजदूरों के शव मिले थे। एसआई निरंजन शर्मा ने बताया कि नागदा निवासी विजय उर्फ कृष्णा (41) और पिपलौदा बागला निवासी शंकरलाल (40) की मौत हो गई। शंकरलाल सैलून पर काम करता था। साथी मजदूरों ने बताया कि दोनों रोजाना शराब पीते थे।
  • बेहोशी की हालत में मिले दो अन्य मजदूर दानी गेट निवासी बबलू (40) और छत्री चौक सराय निवासी बद्रीलाल (65) ने इलाज के दौरान पुलिस को बताया कि उन्होंने झिंझर नाम की शराब पी थी। इसके बाद से उनके पेट में काफी दर्द होने लगा। शाम को बबलू और बद्रीलाल की भी मौत हो गई।
  • शाम 7 बजे माधव गोशाला के पास दिनेश जोशी (45) की लाश मिली। यह मजदूरी नहीं मिलने पर भीख मांगकर भी गुजारा कर लेता था। एएसआई चंद्रभान सिंह ने बताया कि मौत का कारण अभी साफ नहीं है, लेकिन दिनेश भी शराब का आदी था।
  • शाम को ही महाकाल थाना क्षेत्र के बेगमबाग निवासी पीर शाह (45) की अस्पताल में मौत हो गई। पीर छत्री चौक पर ठेला लगाता था। उसे परिजन ने सुबह अस्पताल में भर्ती कराया था। वह भी शराब का लती था। इसी तरह छत्री चौक की पार्किंग से 85 साल के बुजुर्ग की लाश मिली। सीएसपी रजनीश कश्यप ने बताया कि फुटपाथ पर रहने वाले कुछ मजदूर बीमार थे।
बुधवार को दुकान के शेड के नीचे मृत मिला था मजदूर।

मजदूर बोले- कहारवाड़ी से खरीदी थी झिंझर
गाेपाल मंदिर क्षेत्र में नशे में धुत एक मजदूर ने बताया कि सराय के अधिकांश मजदूर पोटली (झिंझर) पीते हैं। ये लोग कहारवाड़ी से झिंझर लेकर आते हैं, कहारवाड़ी में शंकर और बेबी नाम की महिला पोटली बेचती है। 20, 30 और 50 रुपए की पोटली भी मिलती है। वैन में रखकर भी एक व्यक्ति यहां शराब बेचता है।

डॉक्टर बोले- इस तरह अचानक किसी की मौत नहीं होती
सिविल हॉस्पिटल के डाॅ.जितेंद्र शर्मा ने बताया कि उन्होंने चार मजदूरों के शव का पीएम किया है। एकदम से ऐसे किसी की मौत नहीं होती। मजदूर लंबे समय से शराब पीते आ रहे थे। पुलिस से भी यह मालूम पड़ा कि ये लोग आदतन शराबी थे। मजदूरों की मौत का स्पष्ट कारण ताे बिसरा रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

सड़क किनारे इस तरह मृत हालत में मिला मजदूर। बॉडी पूरी तरह से अकड़ गई थी।
Exit mobile version