कोरोना का खतरा न रहे, इसलिए घर से परीक्षा हुई; लेकिन कलेक्शन सेंटर पर भूले सोशल डिस्टेंसिंग

सीहोर में कोरोना संकट के कारण बरकतउल्ला यूनिवर्सिटी की यूजी की फाइनल एग्जाम और पीजी की सेकंड व फोर्थ सेमेस्टर की कॉपियां जमा करने पहले दिन ही कॉलेजों में छात्रों की खासी भीड़ उमड़ी। कई कॉलेजों में सुबह से लंबी कतारें लगी। शासकीय चंद्रशेखर आजाद नोडल पीजी कॉलेज और गर्ल्स कॉलेज में विद्यार्थियों की भीड़ देखते ही बन रही थी। स्थिति यह थी कि कलेक्शन सेंटर के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग नाम की कोई चीज ही नहीं थी। कॉपियां कलेक्ट कर रहे प्रोफेसर्स की भी विद्यार्थी नहीं सुन रहे थे। पीजी कॉलेज में तो करीब 3 हजार से अधिक लोग मंगलवार को पहुंचे।

कलेक्शन सेंटर पर इतनी भीड़ हो गई कि छात्र धक्कामुक्की करते नजर आए।

चंद्रशेखर आजाद नोडल पीजी कॉलेज में सुबह से ही कॉपी जमा करने के लिए छात्र-छात्राओं की भीड़ जुट गई थी। यहां तक की भीड़ इतनी अधिक थी कि हर कोई एक-दूसरे को धक्का-मुक्की करते देखा गया। कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए छात्रों को घर बैठे एग्जाम दिलवाई गई, लेकिन कॉपी जमा करने के दौरान न सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हुआ। कई सेंटर पर कुछ छात्रों ने तो मास्क भी नहीं लगाए थे।

कलेक्शन सेंटर के बाहर छात्र एक-दूसरे के पास बैठ गए। इस दौरान किसी के चेहरे पर मास्क भी नहीं था।

दो दिन में ही जिले में करीब 20 हजार से अधिक छात्र-छात्राओं की की कॉपियां 42 केंद्रों पर जमा करना हैं। इसके बाद 30 दिन में इन परीक्षाओं का रिजल्ट आने की संभावना है। कॉपियां जमा करने के लिए दो दिन का ही समय दिया गया है। मंगलवार को पहले दिन किसी भी केंद्र पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो सका। बुधवार को कॉपियां जमा करने का आखिरी दिन है।

कलेक्शन सेंटर के बाहर कॉपी लिखते रहे विद्यार्थी

कॉलेजों की ऐसी परीक्षा कभी भी किसी ने नहीं देखी होगी जब विद्यार्थियों काे घर पर ही पेपर हल करने का समय दिया गया। इसके बावजूद भी बुधवार को कॉपी कलेक्शन सेंटर के बाहर ही विद्यार्थी कॉपियां लिखते रहे। जगह-जगह विद्यार्थियों के ग्रुप थे जो बैठकर पेपर हल कर रहे थे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

सीहोर में ओपन बुक परीक्षा कोरोना के डर से घर में हो रही है, लेकिन कलेक्शन सेंटर पर कापियां जमा करने जा रहे छात्र सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना भूल रहे हैं।

Related Posts