जबलपुर की युवती से यूके में जॉब बता जालसाज ने की दोस्ती, फिर इमोशनल ब्लैकमेल कर 3.50 लाख रुपए ठगे

शहर की 28 वर्षीय युवती का एक मैरिज साइट पर रजिस्ट्रेशन महंगा पड़ा। जालसाज ने यूके में जॉब करने की बात कह दोस्ती की और फिर उसे इमोशनल ब्लैकमेल कर 3.50 लाख रुपए ऐंठ लिए। शादी के सपने पाल कर बैठी युवती को जालसाज की असलियत जानने में बहुत देर हो गई। युवती की शिकायत पर स्टेट सायबर सेल मामले की जांच में जुटी है। प्रारंभिक जांच में ठगी के तार दिल्ली से जुड़ना मिला है।

युवती करती है जॉब
युवती एक एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब करती है। पारिवारिक बैकग्राउंड भी स्ट्रांग है। परिवार में पिता नहीं हैं। युवती ने जुलाई 2020 को जीवन साथी मैट्रीमोनियल साइट पर रजिस्ट्रेशन कराया था। 15 सितंबर को उसने साइट प्रोफाइल बंद कर दिया था। 11 सितंबर को उसका प्रोफाइल विजय जोशी नाम के युवक से मैच हो गया था। विजय जोशी ने सोशल चैटिंग के माध्यम से खुद के बारे में बताया कि वह यूके में जॉब करता है, लेकिन नवंबर में इंडिया सैटल होगा। यहीं पर उसे एक जॉब भी मिल गई है। युवती ने उसके सोशल चैटिंग वाले नंबर को क्रास चेक किया तो वह यूके का निकला।
मां-बहन को बताया यूएसए में रहना
विजय जोशी ने युवती को बताया कि उसकी मां यूएसए में सिस्टर के पास है। नवंबर में वह भी आ जाएगी। तब वह उसके घर रिश्ते की बात करने आएंगे और दिसंबर में शादी कर लेंगे। विजय हमेशा उससे अंग्रेजी में ही बात करता था। उसने युवती को बताया था कि उसे हिन्दी नहीं आती। हालांकि मां के बारे में हिन्दी-मराठी आने की बात कही थी। इसके बाद युवती और विजय के बीच सोशल चैटिंग के साथ कॉल पर बातचीत होने लगी।
17 सितंबर से शुरू की ठगी
युवती के मुताबिक आरोपी ने 17 सितंबर को काल किया। कहा कि उसका कजिन दिल्ली में है। उसे पैसे चाहिए, लेकिन वहां से सेंड नहीं हो रहा है। युवती ने उसके कहे अनुसार 30 हजार रुपए दिल्ली में कजिन के बताए बैंक खाते में ट्रांसफर कर दिए। 21 को कॉल किया और इमोशनल ब्लैकमेल करते हुए कहा कि उसकी मौसी की तबियत खराब हो गई है। अर्जेंट में ऑपरेशन नहीं हुआ तो मर जाएगी। मां रो रही है। उसने युवती से दिल्ली जाने के लिए कहा। युवती ने जाने से मना कर दिया और उसके कहे अनुसार 60 हजार रुपए जमा कर दिए।

प्रतीकात्मक फोटो

29 नवंबर को इंडिया आने की बात कही
विजय जोशी ने 29 नवंबर को इंडिया में आने की बात कही। उसने युवती के पास ब्रिटिश एयरबस की टिकट और दिल्ली बोर्डिंग का रसीद सोशल साइट के माध्यम से भेजा। इस पर युवती का विश्वास और बढ़ गया। उसने एयरपोर्ट पर चैकिंग में पैसे लगने की बात कही और मौसी के खाते में 60 हजार रुपए युवती से और जमा कराए। चार नवंबर को उसने जबलपुर आने की बात कही थी। 29 अक्टूबर को उसने दिल्ली एयरपोर्ट पर कस्टम द्वारा पकड़े जाने की सूचना दी और बातचीत में खुद को घबराया हुआ दर्शाता रहा। उसने 29 से तीन नवंबर के बीच उसने अलग-अलग तरीके से उससे 80 हजार रुपए और ऐंठ लिए। उसने दिल्ली कस्टम में पदस्थ एक महिला से भी बात कराई। मनी लॉन्डरिंग में फंसाए जाने का हवाला देकर भी उसने युवती को ब्लैकमेल किया।
आठ नवंबर को बैंक से डिटेल्स पता किया
युवती ने चार नवंबर को विजय का इंतजार किया। वह नहीं आया। आठ नवंबर को उसने पैसे जमा करने वाले बैंक खाते से एक मोबाइल नंबर पता किया तो वह दिल्ली का किसी सुनीता शर्मा के नाम पर निकला। उस नंबर पर काल किया तो अंग्रेजी में किसी ने बात की और फिर किसी महिला ने फोन ले लिया। बताया कि बात करने वाला उसकी बहन का पति है, जो साउथ अफ्रीका का रहने वाला है। उसने विजय जोशी के बारे में पूछा तो उसने बताया कि दो दिन पहले उसने सिम लिया है। इसके बाद वह गाली देने लगी। तीन दिन तक उसके पास अलग-अलग नंबरों से गाली वाले कॉल आए तो उसने सभी को ब्लॉक कर दिया। गुरुवार को वह स्टेट सायबर सेल शिकायत करने पहुंची थी।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

स्टेट सायबर सेल

Related Posts