दिग्विजय सिंह ने मंडी खत्म करने के नुकसान बताए; बोले- MP में कृषि मंत्री के किसान भतीजे से हो गई 43 लाख की धोखाधड़ी

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए केंद्र सरकार के नए किसान कानून के नुकसान बताएं हैं। उन्होंने कुछ दिनों पहले शिवराज सरकार में कृषि मंत्री कमल पटेल के रिश्तेदार प्रदीप विष्णु पटेल की तरफ से हंडिया थाने में खातेगांव के व्यापारी खोजा ट्रेडर्स के खिलाफ 43 लाख की फसल खरीद कर पेमेंट नहीं करने की एफआईआर का जिक्र भी किया है।

हालांकि देवास के कन्नौद-खातेगांव, होशंगाबाद, सीहोर और हरदा के 100 से ज्यादा किसानों के साथ धोखाधड़ी करने वाले खोजा ब्रदर्स अब पुलिस रिमांड पर जेल में हैं। उन्होंने सबसे पहले खातेगांव में 22 किसानों ने 1.73 करोड़ रुपए के चेक का अनाज खरीदा था, लेकिन चेक लगाने पर बाउंस हो गए। बाद में देवास पुलिस ने उन्हें इंदौर से गिरफ्तार किया है और इस समय पुलिस रिमांड पर जेल में हैं।

दिग्विजय ने कहा- अब लगाओ एसडीएम कोर्ट के चक्कर
पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा- ‘मध्यप्रदेश भाजपा कृषि मंत्री कमल पटेल के सगे भतीजे प्रदीप विष्णु पटेल ने हंडिया थाने में खातेगांव के व्यापारी खोजा ट्रेडर्स के ख़िलाफ 43 लाख रुपए की फसल खरीद कर पेमेंट नहीं करने की रिपोर्ट दर्ज कराई है। खोजा ट्रेडर्स ने किसान विरोधी कानून आने के बाद अपना मंडी का व्यापारी लाइसेंस निरस्त करा लिया था। यदि प्रदीप ने यह कृषि उपज मंडी में बेची होती तो प्रदीप को पेमेंट दिलाने की जवाबदारी मंडी व मप्र शासन की होती। अब SDM कोर्ट के चक्कर लगाओ।’

देवास और हरदा में धोखाधड़ी के केस दर्ज
खोजा ब्रदर्स के खिलाफ देवास और हरदा जिले में करीब 100 किसानों के साथ धोखाधड़ी के मामले दर्ज कराए गए हैं। देवास जिले के गांव रेहटी निवासी दो व्यापारी भाइयों पवन खोजा और सुरेश खोजा के खिलाफ खातेगांव-कन्नौद तहसील सहित हरदा, होशंगाबाद और सीहोर जिले के किसानों से डॉलर चना और मूंग सहित अन्य उपज खरीदी, लेकिन उन्हें राशि नहीं दी। हालांकि किसानों के राशि के लिए दबाव बनाने पर विश्वास दिलाने के लिए कुछ को चेक दे दिए गए, लेकिन चेक भी बाउंस हो गए।

सबसे पहले खातेगांव में दर्ज हुई शिकायत
22 किसानों ने संयुक्त रूप से अपने आवेदन खातेगांव एसडीएम एवं हरदा एडीएम को दिए हैं। इसमें किसानों ने लगभग 900 क्विंटल डॉलर चना एवं करीब 1900 क्विंटल मूंग दोनों व्यापारी भाइयों को विक्रय करना बताया है। इसका अनुमानित मूल्य 1 करोड़ 73 लाख 87 हजार 700 रुपए का भुगतान उन्हें अब तक नहीं मिला है। गांव देवला के भी कई किसान हैं जिन्हें दोनों व्यापारी भाइयों से अपनी उपज का भुगतान अभी लेना है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

दिग्विजय सिंह ने सोशल मीडिया पर लिखा- किसान कानून वापस लो।

Related Posts