दिव्यांगों की मेहनत के दीपों से जगमगाएगी हमारी दीपावली

दिव्यांगों के हाथों से बने दीये इस दीपावली की रात में लाएंगे उल्लास का उजास…। ये दिव्यांग अपने हुनर का इस्तेमाल कर न सिर्फ मिट्टी के दीये बना रहे हैं, अपितु खूबसूरत वुडन कटिंग पर डेकोरेटिव आइटम्स, गणेश जी, वॉल क्लॉक, रंगोली के डिजाइन, ग्रीटिंग कार्ड्स, पेंटिंग्स और घरों की सजावट की अन्य चीजें भी गढ़ रहे हैं। उनकी कल्पना शक्ति और कलात्मकता के पर्याय बधाई कार्ड आपको बरबस ही आकर्षित कर लेंगे। घर और प्रतिष्ठान के दरवाजे पर सजाए जाने वाले शुभ-लाभ के संदेश भी दिव्यांग तैयार कर रहे हैं। लोगों के बीच इनके हुनर को जगह देने के लिए दीपावली से पहले डीबी सिटी बैसमेंट में इन्हें स्पेस दिया गया है।दिव्यांग बच्चों को दिया प्रशिक्षण
उमंग गौरवदीप वेलफेयर सोसाइटी भोपाल की दीप्ति पटवा बताती हैं कि हमारी संस्था ने 20 दिव्यांग बच्चों के कौशल को देखते हुए अलग-अलग चीजें बनाने का प्रशिक्षण दिया है। दुर्गेश, हर्ष और संजय नाम के बच्चे फ्री हैंड इतनी अच्छी पेंटिंग करते हैं कि बधाई कार्ड हमने उससे ही तैयार कराए हैं। कुछ बच्चों ने कुंकुम और अन्य पूजा सामग्री रखने की लकड़ी के बॉक्स सजाए हैं।
डीबीसिटी में कर रहे डिस्प्ले
ये बच्चे इन डेकोरेटिव आइटम्स को डीबी सिटी बैसमेंट में स्टॉल लगाकर डिस्प्ले कर रहे हैं। इन बच्चों की मुस्कान सहसा ही डीबीसिटी में आने वाले लोगों को आकर्षित कर रही है। ये दिव्यांग बच्चे आपस में साइन लैंग्वेज में बात करते दिखते हैं। उनकी टीचर भी उनके साथ रहती हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

डीबी सिटी में दिव्यांग बच्चे अपने हाथों से बनाए डेकोरेटिव आइटम्स को डिस्प्ले करते हुए।

Related Posts