पिंजरे में कैद होने के बाद भी कम नहीं हुआ तीन साल के तेंदुए का गुस्सा, लोगों को देख गुर्राता रहा

बड़वानी जिले के बिजासन घाट क्षेत्र में पिछले दो महीने से अज्ञात जानवर मवेशियों पर हमला कर रहा था। वन विभाग ने बिजासन क्षेत्र में उमरियापानी और भंवरगढ़ किले के पीछे पिंजरे लगाए थे। मंगलवार रात को भंवरगढ़ किले के पीछे लगाए गए पिंजरे में एक तेंदुआ कैद हो गया। वन विभाग के अनुसार तेंदुआ 3 साल का है। इसे वरिष्ठ अफसरों के निर्देश पर जंगल मे छोड़ा जाएगा। तेंदुआ पकड़ाने पर बड़ी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ उसे देखने पहुंची।

सोमवार सुबह एक बछड़े का किया था शिकार
पिंजरे में कैद हुए तेंदुए ने सोमवार सुबह ग्राम राई के पास जंगल में एक बछड़े पर हमला किया था। हमले में बछड़े के गले और पीठ पर चोट के निशान थे। पशु मालिक राई निवासी शांतिलाल के अनुसार बछड़ा भंवरगढ़ के जंगल में सुबह चरने गया था। कुछ देर बाद वह खेत पर घायल मिला। जानवर काे पकड़ने के लिए वन विभाग ने दाे पिंजरे लगाए थे। पिंजरे में कैद नहीं हाेने पर एक पिंजरे काे उमरियापानी के पास खाई के नजदीक रख दिया था।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

पिंजरे में कैद तेंदुए का गुस्सा कम होने का नाम ही नहीं ले रहा था।

Related Posts