प्रेमी के हाथों मम्मी-पापा की हत्या कराने वाली नाबालिग बेटी बोली- पापा, मेरी जासूसी करा रहे थे, मारते न तो क्या करते?

प्रेमी के हाथों पिता ज्योतिप्रसाद शर्मा व माता नीलम शर्मा की हत्या कराने वाली नाबालिग बेटी ही मास्टरमाइंड निकली। इस सनसनीखेज दोहरे हत्याकांड के लिए उसने ही अपने प्रेमी को उकसाया था। फिर सहानुभूति पाने और केस गुमराह करने के मकसद से पिता पर शोषण जैसे घिनौने आरोप लगाते हुए एक लेटर छोड़ा था। पुलिस पूछताछ में बोली- पापा, मेरी जासूसी करा रहे थे, उन्हें न मारते तो क्या करते? प्रेमी के साथ मिलकर उसने खुद भी अपने ही मम्मी-पापा पर वार किए थे। यही नहीं, अब वही बेटी अपनी मां को भी गलत बता रही है। बोली- मां, ज्यादा मेकअप करती थीं, चैटिंग करती थीं।

अफसरों ने उससे पूछा कि हत्या के बाद रोई क्यों नहीं तो बोली अभी तो रोई थी। पुलिस के मुताबिक वह अंग्रेजी में फर्राटेदार बात करती है। 9वीं में 82 प्रतिशत अंक लाई थी। पुलिस ने आरोपी धनंजय(डीजे) से पूछताछ के लिए 3 दिन का रिमांड लिया है। नाबालिग बेटी को बाल संप्रेषण गृह भेज दिया है।

पापा खुद कोचिंग छोड़ने जाते, कैमरे से नजर रखते थे
पुलिस को गुमराह करने के लिए पिता के बारे में झूठ लिखा था। डीजे (धनंजय यादव)ना फंसे इसलिए पत्र छाेड़ा था। लेकिन मां गलत थी। ज्यादा मेकअप करती, चैटिंग करती थी। रोज माता-पिता में झगड़ा होता था। मैं उनके साथ रहना नहीं चाहती थी। भाई इंदौर छोड़कर गया तो उसके दोस्त जासूसी करते थे। जब हम दाेनाें के बारे में जानकारी मिली तो पिता ने पिटाई की। बंदिशें लगा दी। मुझे कोचिंग छोड़ने खुद जाते थे। कैमरे से नजर रखते थे। पिता इतने गुस्से वाले थे कि इंदौर की पूरी पुलिस लगाकर मुझे खोज लेते, इसलिए उन्हें मारना जरूरी था। मैंने कोई रिलेशन नहीं बनाए, चाहो तो मेरा मेडिकल करवा लो।
– जैसा बेटी ने पुलिस को बताया

दोस्त को फोन लगाया और पकड़े गए
आरोपियों ने अपने मोबाइल यहीं छोड़ दिए थे। उनके सभी परिचितों के नंबर ट्रेसिंग पर थे। डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने बताया कि आरोपी ने चलते रास्ते एक व्यक्ति से फोन लेकर मित्र से मदद मांगी। इसी लिंक से पुलिस उन तक पहुंची। इंदौर पुलिस की सूचना पर मंदसौर पुलिस ने उन्हें होटल से पकड़ा।

हत्या के बाद विजयनगर चौराहे पर किया नाश्ता
बुधवार रात को प्रेमिका ने बताया कि पिता रोज की तरह खूब शराब पीकर आए हैं। तड़के 3.30 बजे उसने फोन कर बुलाया। मैं 4 बजे पहुंचा। आगे के कमरे में मां सोई हुई थी। पहले उन्हीं पर हमला किया। आवाज सुन शर्मा बाहर आए। मैंने दोनों पर हथियारों से हमला कर दिया। हत्या के बाद अलमारी से 1.19 लाख निकाले। सुबह 6 बजे कैमरे का डीवीआर बंद कर भाग गए। दोनों एक्टिवा से गांधीनगर पहुंचे। दोस्त को एक्टिवा लौटाई और घर से बाइक ली। पेट्रोल लेकर विजयनगर चौराहा गए। वहां चाय-नाश्ता किया और निकल पड़े। हम प्रतापगढ़ में सैटल होना चाहते थे। वहां काम मिल जाता, फिर कभी नहीं लौटते।
– जैसा धनंजय ने पुलिस को बताया

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

पुलिस की पकड़ में आरोपी धनंजय यादव

Related Posts