मध्य प्रदेश के दो और विधायक कोरोना पॉजिटिव; 21 को होने वाले विधानसभा सत्र में वर्चुअल शामिल हो सकेंगे माननीय

मध्य प्रदेश विधानसभा का सत्र 21 सितंबर से शुरू हो रहा है और माननीय लगातार कोरोना संक्रमित हो रहे हैं। मंदसौर से भाजपा विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया और छिंदवाड़ा की चौरई से कांग्रेस विधायक चौधरी सुजीत सिंह कोरोना पॉजिटिव आए हैं। इसके साथ ही अब तक प्रदेश में 30 से अधिक विधायक और 10 से अधिक मंत्री कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। मंत्री यशपाल सिंह सिसोदिया तीन दिन पहले हुए गरीबों को राशन की पात्रता पर्ची बांटने के कार्यक्रम में मंत्री हरदीप सिंह डंग के साथ शामिल हुए थे।

इधर, कोरोना से सुरक्षा के लिए विधानसभा के 21 सितंबर को होने वाले सत्र में विधायकों को अपने जिलों से वर्चुअल माध्यम से भी भाग लेने की अनुमति दे दी गई है। देश में पहली बार किसी विधानसभा में ये प्रयोग किया जा रहा है।

छिंदवाड़ा के चौराई से कांग्रेस विधायक चौधरी सुजीत सिंह की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है।

विधायक सुजीत सिंह कोरोना पॉजिटिव, चार दिन से आइसोलेशन में
छिंदवाड़ा जिले की चौराई विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक चौधरी सुजीत सिंह की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उन्होंने खुद सोशल मीडिया पर यह जानकारी दी है। विधायक ने लिखा कि शनिवार सुबह उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। पिछले 4 दिनों से वे होम आइसोलेशन में हैं। उन्होंने कहा है कि पिछले दिनों जो भी मेरे संपर्क में आए हों वो सावधानी बरतते हुए कोरोना टेस्ट करवा लें।

सिसोदिया ने कहा- संपर्क में आए लोग टेस्ट करा लें
मंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया ने अपने कोरोना पॉजिटिव आने की जानकारी फेसबुक पर पोस्ट कर दी है। उन्होंने संपर्क में आये सभी लोगो को टेस्ट करवाने की सलाह दी। वहीं भोपाल के पूर्व सांसद आलोक संजर कोरोना पॉजिटिव आने के बाद अस्पताल में भर्ती हैं। उन्हें बी प्लस प्लाज्मा की जरूरत है। उनके बेटों अनंत संजर और अर्पित संजर ने लोगों से प्लाज्मा देने की अपील की है। ये भी लिखा है कि उन्हें शीघ्र प्लाज्मा की जरूरत है।

सदन की कार्यवाही में वर्चुअल भाग ले सकेंगे विधायक
इधर, कोरोना से सुरक्षा के लिए विधानसभा के 21 सितंबर को होने वाले सत्र में विधायकों को अपने जिलों से वर्चुअल माध्यम से भी भाग लेने की अनुमति दे दी गई है। देश में पहली बार किसी विधानसभा में ये प्रयोग किया जा रहा है। इसके लिए जिलों के नेशनल इन्फरमेटिक्स सेंटर में भी व्यवस्था की जाएगी। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए ये व्यवस्था विधानसभा सचिवालय ने की है। सदन में भाग लेने के इच्छुक विधायक एनआईसी से इसमें शामिल हो सकेंगे। विधानसभा सदन में बड़ी स्क्रीन लगाई जाएगी, जिससे विधायक को देखा जा सके।

प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 लाख के पार पहुंची
मध्य प्रदेश में कोरोना की रफ्तार अब बेकाबू हो गई है। राज्य में शुक्रवार को कोरोना संक्रमितों की संख्या एक लाख का आंकड़ा पार कर गई। आज 2552 नए संक्रमित मिले। इसके साथ ही कोरोना के कुल मामले 1 लाख 558 हो गए। राजधानी में भी संक्रमण की रफ्तार कम नहीं हो रही है। यहां पर डबलिंग रेट बढ़ गया है। अब 42 दिन में दोगुने मरीज मिल रहे हैं। सितंबर के 18 दिनों में भोपाल में कोरोना के 5 हजार नए केस सामने आए हैं। वहीं, 21 अगस्त के बाद राजधानी में संक्रमण से 100 लोगों की मौत हो चुकी है। प्रदेश में 22 मार्च को जबलपुर में कोरोना का पहला केस मिला था। उसके 180 दिन बाद कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 लाख पार पहुंच गई।

रोज दो लाख 38 हजार लीटर ऑक्सीजन की पड़ सकती है जरूरत
इधर, कोरोना संक्रमण के चलते मेडिकल ऑक्सीजन की खपत लगातार बढ़ने से सरकार चिंता में है। मरीजों की बढ़ती संख्या के आधार पर स्वास्थ्य विभाग ने अनुमान लगाया है कि 31 अक्टूबर तक प्रदेश में कोरोना के 55 हजार सक्रिय ( जिनका इलाज चल रहा है) इनमें करीब 11 हजार मरीजों को अलग-अलग मात्रा में ऑक्सीजन की जरूरत होगी। इस लिहाज से हर दिन दो लाख 28 हजार लीटर (300 टन) ऑक्सीजन की जरूरत पड़ेगी। इसके लिए प्रदेश सरकार ने छत्तीसगढ़, उड़ीसा और उत्तर प्रदेश में तीन अलग-अलग कंपनियों से बात की है। जरूरत पर इन कंपनियों ने ऑक्सीजन की सप्लाई रोकी तो प्रदेश में स्थिति भयावह हो सकती है।

सामान्य स्थिति में प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में हर दिन करीब 39 हजार 700 लीटर ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती थी, जो कोरोना के चलते अब बढ़कर करीब एक लाख 19 हजार लीटर (150) टन हो तक पहुंच गई है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया 16 सितंबर को गरीबों को राशन पात्रता पर्ची बांटने के कार्यक्रम में मंत्री हरदीप सिंह डंग के साथ मौजूद थे।

Related Posts