मुरैना जिले में दो जगह फायरिंग, जौरा में मतदान रोकने की कोशिश; 11 बजे तक 26.59% वोटिंग

मध्य प्रदेश के 19 जिलों के 28 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव के लिए वोटिंग जारी है। सुबह 11 बजे तक 26.59% वोटिंग हो चुकी थी। वोटिंग का समय शाम 6 बजे तक है। सबसे ज्यादा मतदान सुवासरा सीट पर 35 प्रतिशत हुआ है। मुरैना जिले में सुमावली विधानसभा सीट के कासपुरा और खनेता गांव में फायरिंग की घटना हुई। इसमें एक महिला को गोली लगी। जौरा में बाहुबलियों ने मतदान रोकने की कोशिश की। इसकी शिकायत की गई है।

इधर, मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री गोपाल भार्गव पर आचार संहिता उल्लंघन का केस दर्ज किया। बीती रात वह सुरखी सीट के बाजना में मतदाताओं के साथ बैठक कर रहे थे। शिकायत के बाद उनपर केस दर्ज हुआ है। इससे पहले कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर EVM से वोटिंग करवाने पर सवाल उठाए।

अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी अरुण कुमार तोमर ने बताया कि उपचुनाव में 3 नवंबर को कुल 9 हजार 361 केंद्रों पर वोटिंग हो रही है। 10 नवंबर को विधानसभा क्षेत्र/जिला मुख्यालय पर काउंटिंग होगी। कुल 355 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं। मतदान के लिए 13 हजार 115 बैलट यूनिट, 13 हजार 115 कंट्रोल यूनिट और 14 हजार 50 वीवीपैट हैं।

अपडेट्स

  • मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लोगों से वोटिंग की अपील करते हुए कहा, “वोटिंग से लोकतंत्र मजबूत होता है। आपकी उम्मीदें पूरी करने वाली सरकार चुनने के लिए आप सभी को वोट जरूर डालना चाहिए। घरों से निकलिए और वोटिंग कीजिए। हमें मिलकर मध्य प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाना है।
  • सांवेर की तलावली चांदा बूथ पर कांग्रेस और बीजेपी के कार्यकर्ता आमने-सामने आ गए। कांग्रेसियों का आरोप है कि बीजेपी के कार्यकर्ता मतदाताओं पर उनके पक्ष में वोट करने के लिए दबाव बना रहे हैं।
  • डबरा में एक पोलिंग केंद्र पर करीब पौन घंटे तक मशीन खराब रही। इसके चलते देर से वोटिंग शुरू हुई।​​​​​​
  • मुरैना के सुमावली सीट के जतावर पोलिंग बूथ पर फायरिंग हुई। मतदान रोका गया। एक युवक को गोली लगी। मामले में 4 लोग गिरफ्तार हो गए हैं। इनसे हथियार भी बरामद भी किया है।
  • केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने अपनी पत्नी के साथ मतदान करने पहुंचे।
  • भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा कि दिग्विजय सिंह को उपचुनावों में कांग्रेस की हार की भूमिका बनाना शुरू कर दिया है।
महिला पोलिंग बूथ पर वोटर सेल्फी प्वाइंट बनाया गया है, ताकि लोग बढ़-चढ़कर वोटिंग में हिस्सा लें।

कोविड मरीज अंतिम एक घंटे में डाल सकेंगे वोट
निर्वाचन आयोग ने कोरोना के मद्देनजर खास इंतजाम किए हैं। कोविड-19 से सुरक्षित मतदान के लिए केंद्रों पर मास्क, सैनिटाइजर, साबुन, पानी, तापमान की जांच व्यवस्था के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जाएगा। इसके साथ ही मतदान का समय एक घंटे बढ़ाया गया है। मतदान केंद्रों पर अधिक भीड़ नहीं हो, इसके लिए सहायक मतदान केंद्रों की व्यवस्था की गई है। मतदान केंद्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए 6 फुट की दूरी पर गोले बनाए गए हैं। कोविड संदिग्ध या क्वॉरैंटाइन वोटर मतदान केंद्र के अंदर एक बार में एक ही वोटर जाएगा।

केंद्रों में कोविड से बचाव की पूरी तैयारी
मतदाताओं में कोविड-19 का भ्रम दूर करने के लिए मतदान केंद्रों पर कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा गया है। मतदान केंद्र का आवश्यक सैनिटाइजेशन कराया गया है। मतदान कर्मियों को पीपीई किट प्रदान की गई है। यदि टेम्परेचर दो बार मापने पर भी ज्यादा होता है, तो निर्वाचक को कोविड-19 की गाइडलाइन के तहत उस वोटर को आखिरी घंटे में वोट डालने दिया जाएगा।

वोटर टर्न आउट एप पर मिलेगी वोटिंग की ताजा जानकारी
उपचुनाव में 19 जिलों की 28 विधानसभा क्षेत्रों में होने वाले मतदान के प्रतिशत की अपडेट जानकारी ‘Voter turnout’ पर मिलेगी। eci.gov.in/voter-turnout के जरिए भी वोटिंग प्रतिशत की जानकारी मिल सकेगी।

पिछले दो चुनाव में 23 मंत्री हार चुके
पिछले दो विधानसभा चुनाव का रिकॉर्ड देखें तो शिवराज सरकार के 23 मंत्रियों को जनता ने घर बैठा दिया था। वर्ष 2013 में 10 और 2018 में 13 मंत्री विधानसभा चुनाव नहीं जीत पाए। इस बार 3 नवंबर 2020 को होने वाले चुनाव में 14 मंत्रियों की साख दांव पर लगी है। इसमें से 11 पर तो भाजपा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की प्रतिष्ठा भी दांव पर है, क्योंकि यह उनके कहने पर ही पार्टी बदलकर भाजपा में आए हैं।

इन पर सबकी नजर
सिंधिया समर्थक भाजपा सरकार में मंत्री तुलसी सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत, प्रभु राम चौधरी, इमरती देवी, प्रद्युम्न सिंह तोमर, महेंद्र सिंह सिसोदिया, गिर्राज दंडोतिया, ओपीएस भदौरिया, सुरेश धाकड़, बृजेंद्र सिंह यादव, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव, ऐंदल सिंह कंसाना, बिसाहूलाल सिंह और हरदीप सिंह डंग पर सबकी नजर रहेगी। हालांकि, यह अपने बयानों को लेकर भी विवादों में रह चुके हैं।

वोटों का गणित साधने की कोशिश
कांग्रेस से भाजपा में गए 25 पूर्व विधायकों के सामने फिर से विधायक बनने के रास्ते में सबसे बड़ी चुनौती खुद को मिले वोटों के अंतर को पाटना है, जो उन्हें कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में भाजपा उम्मीदवारों से अधिक मिले थे। इस मामले में सबसे ज्यादा चुनौती उन पूर्व विधायकों के सामने हैं, जो 2000 से कम मतों से जीते थे। इनमें मंत्री हरदीप सिंह डंग की जीत सबसे छोटी थी और वह 350 मतों से जीते थे। उसके बाद मांधाता के नारायण पटेल 1236 और नेपानगर की सुमित्रा देवी 1256 मतों से जीती थीं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Madhya Pradesh (MP) By-Election 2020 Voting 28 Seats Today Updates | Test For Shivraj Singh Chouhan, Jyotiraditya Scindia, Kamal Nath, Digvijay Singh

Related Posts