रिकॉर्ड में 20 हजार क्विंटल धान खरीदी और परिवहन दर्ज, मौके पर 50 हजार क्विंटल धान मिला

जिले में धान खरीदी में गोलमाल जारी है। पाटन के एक खरीदी केंद्र में 50 हजार क्विंटल धान मिली। जबकि रिकॉर्ड में 20 हजार क्विंटल धान की कुल खरीदी हुई है। इसमें से 18 हजार के लगभग धान का परिवहन भी हाे चुका है। वहीं पनागर में प्रशासन ने 400 क्विंटल अमानक धान जब्त किया। इसकी कीमत 7.50 लाख रुपए बताई जा रही है। दोनों ही प्रकरणों की जांच शुरू हो गई है।

 ऑनलाइन रिपोर्ट की जांच करते अधिकारी
ऑनलाइन रिपोर्ट की जांच करते अधिकारी

तीन खरीदी केंद्र में धांधली आई सामने
जानकारी के अनुसार पाटन तहसीलदार प्रमोद चतुर्वेदी और नायब तहसीलदार के साथ राजस्व निरीक्षक पाटन-1 व पाटन-2 ने कुकरभुका के विनायक वेयर हाउस का औचक निरीक्षण किया। यहां धान खरीदी केंद्र क्रमांक-1, सेवा सहकारी समिति 2 और 3 के परिसर में 50 हजार क्विंटल धान रखी हुई मिली। मौके पर मौजूद ऑपरेटर श्रीकांत नदेसरिया ने ऑनलाइन रिपोर्ट पेश की। उसके अनुसार तीनों केंद्रों में 259 किसानों से कुल 20 हजार 165 क्विंटल धान की खरीदी हुई है। वहीं 18 हजार 888 क्विंटल धान का अब तक परिवहन भी हाे चुका है।

बोरियों में लगे टैग में किसान व पंजीयन क्रमांक तक नहीं
वेयर हाउस में रखी बोरियों की जांच में एक और चौंकाने वाली बात सामने आई। नियम के अनुसार हर बोरी के टैग में किसान और पंजीयन क्रमांक डालना अनिवार्य है, पर यहां किसी बोरी में ऐसा नहीं मिला। मौके पर मौजूद किसान बरोंदा निवासी सौरभ ने बताया कि वह एक सप्ताह से धान तुलाई के लिए परेशान हो रहा है। उसका पंजीयन 1193387836 है। 353.43 क्विंटल का एसएमएस भी आया था। इसमें से लगभग 246 क्विंटल की धान तुलाई हो चुकी है। शेष धान की अभी तौल तक नहीं हुई। टीम ने सेम्पल परीक्षण कराया है।

पाटन में एक साल पुरानी और कई किस्मों की मिक्स धान
पाटन में एक साल पुरानी और कई किस्मों की मिक्स धान

पनागर में जब्त हुई 400 क्विंटल की अमानक धान
वहीं पनागर कृषि उपज मंडी स्थित खरीदी केंद्र पर एसडीएम जबलपुर नम: शिवाय अरजरिया औचक जांच करने पहुंचे, तो दंग रह गए। यहां समिति पर 400 क्विंटल अमानक धान बिकने पहुंची थी। 7.50 लाख रुपए कीमत की इस धान को एसडीएम ने जब्त कराया। उक्त धान एक से दो वर्ष पुरानी और चार से पांच किस्म की मिक्स करके रखा गया था। ये धान आदित्य जैन नाम का किसान लेकर पहुंचा था। जबकि उसने पंजीयन में सिर्फ 35 क्विंटल धान बिक्री का कराया था। एसडीएम ने धान जब्त कराते हुए इसे सहकारिता निरीक्षक की सुपुर्दगी में दे दिया। इसे राजसात कर पूरे मामले की जांच के निर्देश दिए गए हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

पाटन में तीन धान ख्ररीदी केंद्रों की जांच करते अधिकारी

Related Posts