हम अपने बीच किसी को नहीं आने देंगे, इसलिए माता-पिता को मार डाला

रुक्मणि नगर में गुरुवार को हुए एसएएफ के ड्राइवर ज्योति शर्मा और उनकी पत्नी नीलम की हत्या करने वाली बेटी को पुलिस शनिवार को मंदसौर जांच के लिए ले गई। यहां जिस होटल में वो रुके थे, वहां से लड़की का बैग बरामद किया गया है। बैग में एक पत्र मिला है, जिसे लड़की का प्रेम पत्र बताया जा रहा है। इसमें लिखा है कि हम अपने बीच किसी को नहीं आने देंगे। इसी से लगता है कि लड़की डीजे के इश्क में कितनी पागल थी। हालांकि दोनों ने वारदात कबूल कर ली है। उनका कहना है कि हत्या का षड़यंत्र दो दिन से चल रहा था। डीजे तो 21 दिसंबर तक पुलिस रिमांड पर है, जबकि बेटी को नाबालिग होने पर बाल सुधार गृह भेज दिया गया है।

ऐसा है पत्र का मजमून
‘प्रेम पत्र’
“सिर्फ पांच मिनट ही सही, आपसे हुई मुलाकात जिंदगी के सबसे मीठे पल होते हैं। मैं चाहती हूं, वो पल कुछ लम्हों के लिए ठहर जाएं। आपके लिए जिंदगी कुर्बान है। आप मेरे नहीं हुए, तो किसी का नहीं होने दूंगी। मैं नहीं चाहती कि हमारे बीच में कोई और आए। मुझे तो सोच सोचकर मजा आ रहा है। सुनो, हम अपने बीच में किसी को नहीं आने देंगे।”

हत्याकांड के बाद गुमसुम रहा डीजे
शुक्रवार को जहां प्रेमिका को बाल सुधार गृह भेज दिया था। वहां दिन भर डीजे गुमसुम बैठा रहा। उसने पुलिस वाले से केवल एक बात जाननी चाही कि क्या लड़की की जमानत हो गई है, जिस पर पुलिस वालों ने कहा, हत्या के मामले में इतनी आसानी से जमानत नहीं हो पाएगी।

लड़की को नहीं है मलाल
लड़की ने पुलिस को बताया है कि वह डीजे बहुत प्यार करती है। वे कुछ समय पहले मोहल्ले में ही आते-जाते मिले और यहीं से दोस्ती प्यार में बदल गई। यह बात मेरे परिवार को पता चल गई। वे डीजे से मिलने से मुझे रोकते थे। इसके बाद भी हम मिलते रहे। दो दिन पहले हमें उन्होंने साथ में देखा और डीजे की पिटाई कर दी। मुझे भी उनका गुस्सा झेलना पड़ा। यहीं से हमारे मन में साथ रहने और परिवार से दूर जाने की ख्याल आया। क्योंकि पिता पुलिस में हैं, इसलिए डर था कि यदि भागे, तो वे हमें खोज लेंगे और हमें मारेंगे। इसी कारण डीजे ने जब प्लानिंग बताई, तो मैं उसके साथ हो गई।

इसके बाद हमने प्लान किया कि नींद की गोली खिलाकर वारदात को अंजाम देंगे, लेकिन मेडिकल से गोलियां नहीं मिल पाईं। इसके बाद डीजे दूसरी गोली लेकर आया और शाम को मुझे दे गया। मैंने रात में गोलियां खाने में मिला दी। डीजे ने हत्या के लिए पहले ही 500 रुपए में एक हथियार खरीद लिया था। रात साढ़े 3 बजे जब दोनों गहरी नींद में थे तभी मैंने डीजे को फोन कर बुला लिया। इसके बाद डीजे आया और बाहर वाले कमरे में सो रही मां को पहले हमने मारा। मां की चीख सुन पिता उठ गए और बाहर आते ही डीजे ने उन पर भी हमला कर दिया।

हत्या के बाद बाइक से भागे थे दोनों
डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र ने बताया कि पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ही शर्मा दंपती की हत्या करने वाले आरोपी धनंजय और उसकी नाबालिग प्रेमिका को मंदसौर की एक होटल से गिरफ्तार कर लिया है। वे दोनों बाइक से भागे थे। वहां की पुलिस ने होटल से पकड़ा और फिर इंदौर पुलिस उन्हें ले आई।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

हत्याकांड के बाद आरोपी डीजे हवालात में गुमसुम रहा।

Related Posts