इंफ्रा सेक्टर में मांग बढ़ने से मिलेगा सपोर्ट:सीमेंट कंपनियों की बिक्री 13% बढ़ सकती है, एक दशक के उच्चतम स्तर पर पहुंच सकती है

डीजल, पेट कोक या कोयले और पॉलिप्रॉपिलीन जैसे कच्चे माल के महंगा होने से लागत 150 से 200 रुपए प्रति टन बढ़ सकती है,2021-22 में इंफ्रा सेक्टर के बजट प्रावधान में 26% बढ़ोतरी के हिसाब से इंफ्रा डेवलपमेंट पर होने वाला खर्च ज्यादा रह सकता है

Related Posts