एचसीएल टेक्नोलॉजी ने ऑस्ट्रेलियन आईटी फर्म डीडब्ल्यूएस को 845 करोड़ रुपए में खरीदा, इस महीने 22 प्रतिशत बढ़ा शेयर आगे और बढ़ने की उम्मीद

एचसीएल टेक्नोलॉजी ने ऑस्ट्रेलियन आईटी फर्म डीडब्ल्यूएस को खरीद लिया है। यह सौदा 845 करोड़ रुपए (11.58 करोड़ डॉलर) में हुआ है। इसके जरिए एचसीएल टेक ऑस्ट्रेलियन और न्यूजीलैंड बाजार में डिजिटल सेवाओं की ऑफरिंग कर सकेगी। कंपनी ने शेयर बाजार को यह जानकारी दी। बीएसई पर कंपनी का शेयर एक प्रतिशत गिरावट के साथ 802 रुपए पर बंद हुआ।

हालांकि इस महीने में यह शेयर 663 रुपए से 22 प्रतिशत बढ़कर आज सुबह 849 पर पहुंच गया था। आगे इसमें विश्लेषक और बढ़ने की उम्मीद जता रहे हैं। इसका लक्ष्य अब 934 रुपए कर दिया गया है। एंजल ब्रोकिंग ने कहा है कि आईटी क्षेत्र में यह एक बेहतरीन शेयर है और हमारा लक्ष्य अब 946 रुपए का इस शेयर पर है। यानी यह शेयर यहां से करीबन 100 रुपए प्रति शेयर बढ़ सकता है।

12.29 करोड़ डॉलर रहा है रेवेन्यू

कंपनी ने शेयर बाजार को दी सूचना में कहा है कि डीडब्ल्यूएस ग्रुप का वित्त वर्ष 2020 में कुल रेवेन्यू 12.29 करोड़ डॉलर रहा है। इसके पास 700 से ज्यादा कर्मचारी हैं। कंपनी ऑस्ट्रेलिया के मेलबोर्न, सिडनी, एडिलेड, ब्रिस्बेन और कैनबरा में काम करती है। यह आईटी सेवाओं की ज्यादा रेंज की ऑफरिंग करती है। इसमें डिजिटल ट्रांसफार्मेशन, एप्लीकेशन डेवलपमेंट और सपोर्ट, प्रोग्राम एवं प्रोजेक्ट मैनेजमेंट और कंसल्टिंग जैसी सेवाएं शामिल हैं।

नई डील को लेकर उत्साहित है एचसीएल टेक

एचसीएल टेक्नोलॉजी के ऑस्ट्रेलिया एवं न्यूजीलैंड के कंट्री मैनेजर मिशेल हॉर्टन ने कहा कि हम ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में अपने कारोबार को बढ़ाने में काफी उत्साहित हैं। हमें विश्वास है कि हम अपने ग्राहकों को डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन और इनोवेशन की सेवाओं में और मजबूती दे सकेंगे। एचसीएल ने इस क्षेत्र में पिछले 20 सालों से निवेश किया है और यह आगे भी लोकल इकोसिस्टम में डिजिटलाइजेशन के लिए प्रतिबद्ध है।

एचसीएल के ऑस्ट्रेलिया में 1600 कर्मचारी

एचसीएल टेक के पास वर्तमान में कुल 1,600 कर्मचारी ऑस्ट्रेलिया में हैं। इसमें कैनबरा, सिडनी, मेलबोर्न, ब्रिस्बेन और पर्थ में इसका कारोबार है। कंपनी को उम्मीद है कि इस डील का पूरा ट्रांजेक्शन दिसंबर 2020 तक हो जाएगा। इसमें रेगुलेटरी मंजूरी और अन्य शर्तों का भी समावेश है। डीडब्ल्यूएस के एमडी डैनी वालिस ने कहा कि हम एचसीएल के साथ जुड़कर काफी खुश हैं। इस डील से हमारे सभी शेयर धारकों, कर्मचारियों और ग्राहकों के साथ अन्य बिजनेस पार्टनर्स के लिए एक बेहतरीन अवसर आएगा।

बता दें कि एचसीएल टेक्नोलॉजी में एक लीडिंग कंपनी है। हाल के समय में इसके शेयर ने निवेशकों को अच्छा मुनाफा दिया है। इसके चेयरमैन शिव नाडार की बेटी अब ज्यादा कामकाज देखती हैं। कंपनी लगातार निवेश पर फोकस कर विस्तार कर रही है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

एचसीएल टेक्नोलॉजी को उम्मीद है कि वह इस डील के जरिए ग्राहकों को और ज्यादा सेवाएं देने में सक्षम होगी

Related Posts