मनी लांड्रिंग के पुराने मामले में स्विट्जरलैंड के प्रॉसिक्युटर ने क्रेडिट सुइस पर आपराधिक आरोप तय किया

स्विट्जरलैंड के प्रॉसिक्युटर ने क्रेडिट स्विस ग्रुप एजी पर एक आपराधिक आरोप तय किया है। बैंक पर आरोप है कि वह क्लाइएंट्स और कर्मचारियों द्वारा बैंक के जरिये किए गए मनी लांड्रिंग को रोक पाने में विफल रहा। यह मामला 2004 और 2008 के बीच का है।

स्विस एटॉर्नी जनरल के कार्यालय ने कहा कि 2004 से 2008 के बीच क्रेडिट सुइस ने मनी लांड्रिंग को रोकने वाले प्रावधानों या कस्टमर्स की अकाउंट्स ओपनिंग या मॉनीटरिंग में अपने आंतरिक नियमों का पालन नहीं किया। बैंक की गलती के कारण उस अवधि में बुल्गारिया के एक आपराधिक संगठन ने बैंक के अधिकारियों की मदद से बैंक के जरिये मनी लाउंडर किया। आरोप के मुताबिक आपराधिक संगठन ने ड्रग्स ट्रांसपोर्टेशन और मनी लांड्रिंग गतिविधियों के लिए बुल्गारिया के एक रेसलर और उसके साथ कुछ लोगों को नियुक्त किया था।

क्रेडिट सुइस के एक पूर्व अधिकारी पर पैसे के क्रिमिनल ओरिजिन को छुपान का आरोप

क्रेडिट सुइस के एक पूर्व अधिकारी पर आरोप लगाया गया है कि उसने मनी लांड्रिंग गतिविधि में बुल्गारिया के संगठन मदद की और बैंक में लेन-देन की गई रकम के क्रिमिनल ओरिजिन को छुपाया। दो अन्य लोगों को भी आरोप में नामित किया गया है, जिसके बारे में प्रॉसिक्युटर्स ने कहा है कि वे बुल्गारिया के संगठन के सदस्य थे। स्विट्जरलैंड ने इस मामले की क्रिमिनल प्रोसिडिंग 2008 में शुरू की थी।

बैंक ने आरोप को खारिज किया

क्रेडिट सुइस ने गुरुवार को तय किए गए आरोप पर आश्चर्य जताया और उसे खारिज किया। बैंक ने कहा कि उसे पूरा विश्वास है कि पूर्व कर्मचारी निर्दोष है। उस कर्मचारी ने 2007 में बैंक की नौकरी छोड़ दी थी। बैंक ने कहा कि बाहरी वकीलों और कंसल्टेंट्स ने 2004 से 2008 की अवधि के लिए मनी लांड्र्रिंग के विरुद्ध बैंक की प्रणाली की समीक्षा की थी और उस अवधि में बैंक के सांगठनिक ढांचे को सही पाया था। बैंक ने कहा कि उन विशेषज्ञों के मुताबिक प्रॉसिक्युटर्स ने उन नियमों के आधार पर बैंक की गलती बताई है, जो उस अवधि में लागू नहीं थे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

स्विस एटॉर्नी जनरल के कार्यालय ने कहा कि 2004 से 2008 के बीच क्रेडिट सुइस ने मनी लांड्रिंग को रोकने वाले प्रावधानों या कस्टमर्स की अकाउंट्स ओपनिंग या मॉनीटरिंग में अपने आंतरिक नियमों का पालन नहीं किया

Related Posts