रियल एस्टेट सेक्टर में लॉकडाउन वाली सुस्ती हुई दूर, दिसंबर तिमाही में मकानों के दाम एक पर्सेंट बढ़े

इंडियन रियल एस्टेट सेक्टर में लॉकडाउन के दौरान आई सुस्ती दूसरी छमाही में दूर हो गई। दिसंबर तिमाही में रिहाइशी मकानों के दाम में औसतन एक पर्सेंट की बढ़ोतरी भी हुई। यह जानकारी मैजिकब्रिक ने अपनी हालिया रिपोर्ट प्रॉपइंडेक्स में दी है। दिसंबर तिमाही में रेडी टू मूव मकानों की कीमत कमोबेश जस की तस रही, लेकिन अंडर कंस्ट्रक्शन मकानों का दाम औसतन दो पर्सेंट बढ़ा। जहां तक अंडर कंस्ट्रक्शन प्रॉपर्टीज के दाम में बढ़ोतरी की बात है तो यह ट्रेंड खास तौर पर पश्चिम और दक्षिण भारत में देखने को मिला।

नोएडा एक्सटेंशन, न्यू गुरुग्राम और सोहना में किफायती मकानों के दाम बढ़े

शहरों के हिसाब से बात करें तो मकानों के दाम में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी पश्चिमी भारत में हुई। मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन में मकानों की कीमत एक पर्सेंट बढ़ी जबकि अहमदाबाद में 1.4 पर्सेंट का इजाफा हुआ। दक्षिण में बेंगलुरू के प्रॉपर्टी मार्केट का भाव जस का तस रहा जबकि हैदराबाद और चेन्नई में दाम 1-3 पर्सेंट घटे। दिल्ली-एनसीआर के नोएडा और गुरुग्राम में मकानों का दाम मामूली तौर पर घटा लेकिन नोएडा एक्सटेंशन, न्यू गुरुग्राम और सोहना में किफायती मकानों के दाम बढ़े।

मकानों की खरीदारी के लिए पूछताछ कोविड-19 के पहले से 30 पर्सेंट ज्यादा रही

भले ही प्रॉपर्टी के दाम दिसंबर तिमाही में कमोबेश जस-के-तस रहे हों, लेकिन उनकी पूछताछ खूब निकली। इस तिमाही में मकानों की खरीदारी के लिए पूछताछ कोविड-19 के पहले से 30 पर्सेंट ज्यादा रही जो सितंबर क्वॉर्टर में 50 पर्सेंट ऊपर तक चली गई थी। दरअसल, खरीदारी की पूछताछ करने वालों में ज्यादातर लोगों की नजरें स्ट्रेस्ड सेल डील और फेस्टिव सीजन डिस्काउंट पर थीं। नई लॉन्चिंग और सेकेंडरी सेल की लिस्टिंग बढ़ने से प्रॉपर्टी मार्केट में सप्लाई पिछले साल से 25 पर्सेंट ज्यादा रही जबकि सितंबर तिमाही में यह 10 पर्सेंट घटी थी।

इकनॉमिक एक्टिविटी में गिरावट अक्टूबर के बाद थमी, रियल एस्टेट में V शेप की रिकवरी

प्रॉपइंडेक्स रिपोर्ट पर मैजिकब्रिक्स के सीईओ सुधीर पाई ने कहा, “अर्थव्यवस्था और नौकरियों को लेकर अनिश्चितता घटने से अब रियल एस्टेट सेक्टर में ग्रोथ की संभावना नजर आ रही है। अर्थव्यवस्था में गिरावट अक्टूबर 2020 के बाद थम गई और अब रियल एस्टेट में V शेप की रिकवरी हो रही है।” उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों में स्टांप ड्यूटी घटाए जाने और पहला मकान खरीदने वालों को सरकार की तरफ से इनसेंटिव दिए जाने से 2021 में मकानों की मांग ऊंची बनी रह सकती है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Slowdown in real estate sector gone, house prices rise one percent in December quarter

Related Posts